Tuesday, August 9, 2022

Latest Posts

नीरी सिरप के फायदे और नुकसान – Neeri syrup uses in hindi, Benefits and Side Effects

- Advertisement -

जब भी आपकी समस्या किडनी से जुड़ी होती है ऐसे में Neeri syrup का उपयोग करने के लिए अधिकतर लोग सलाह देते हैं। किसी भी चीज को उपयोग करने से पहले आपको यह जान लेना जरूरी होता है कि आप जिस चीज को उपयोग कर रहे हैं वह सही है या नहीं इन बातों को जानना और ध्यान रखना यह आप की ही जिम्मेदारी होती है।

- Advertisement -

Buy Neeri Syrup

तो आज हम आपको इस पोस्ट में यह बताएंगे Neeri syrup उपयोग करना और इसका उपयोग क्यों किया जाता है, इसके फायदे और नुकसान क्या होते हैं साथ ही इसके बारे में आपको हम कई महत्वपूर्ण जानकारियां भी देंगे।

आखिर Neeri syrup है क्या?

- Advertisement -

एक आयुर्वेदिक दवा है Neeri syrup, इसको कुछ खास तरह की जड़ी-बूटियों को मिलाकर बनाया जाता है। Aimil company द्वारा Neeri syrup को बनाया गया है।किडनी से जुड़ी समस्या के लिए नीरी सिरप का उपयोग किया जाता हैं। इसको किडनी संक्रमण, पथरी, पैशाब में जलन जैसी अन्य कई समस्याओं में इसका इस्तेमाल किया जाता है। इसको Neeri KFT syrup कहा जाता है।

इसका कोई खास साइड इफैक्ट नहीं होता है क्युकी ये एक आयुर्वेदिक दवा है। फिर भी आपको आगे चलकर इससे कोई परेशानी का सामना ना करना पड़े इसलिए हम आपको ये सलाह देते हैं कि किसी भी दवा का इस्तेमाल करने से पहले एक बार डॉक्टर से उनकी सलाह जरूर लें।

क्या-क्या Neeri syrup में होता है?

अनेकों तरह की जड़ी बूटियों को मिलाकर एक आयुर्वेदिक Neeri syrup को बनाया जाता है। Neeri syrup के मिलाएं जाने वाले इंग्रेडिएंट्स ये हैं :

बर्गेनिया लिगुलाटा
ब्यूटा मोनोस्पर्मा
बोहेराविया डिफुसा
कृतैवा
दारुहरिद्रा
डोलिकोस बिफ्लोरस
लज्जलु
मूलिशर
लीसियम एक्सट्रेक्ट
छरिल्ला
पंचत्रिं मूल
शीतल चीनी
इक्षु
सेंधा नमक
मकोया
शिलाजीत शुद्ध
श्वेत पर्पटी
गोखरू

Neeri syrup का उपयोग किसलिए किया जाता है?

खासकर किडनी से जुड़ी समस्याओं में Neeri syrup का उपयोग किया जाता है। और भी कई समस्याओं में इसके अलावा इसका उपयोग भी किया जाता है। समस्याएं कुछ इस प्रकार है : –

मूत्र पथ के संक्रमण
गैस्ट्रिक जलन
कम मूत्र उत्पादन के लिए
दर्द
जीवाणु संक्रमण
लीवर सिरोसिस
पेट की समस्या
अत्यधिक प्यास
भूख में कमी
पाचन रोग
मधुमेह
मिरगी
जोड़ो में दर्द
गर्भाशय रक्तस्राव विका

पैशाब से जुड़ी और इसके अलावा अन्य समस्याओं और अन्य बीमारियों में भी इसका उपयोग किया जाता है।

कैसे काम करती है नीरी सिरप ?( How neeri syrup works in hindi)-

आयुर्वेदिक चिकित्सक की सलाह अनुसार नीरी सिरप का इस्तेमाल किया जाना चाहिए। यह प्रोस्टेट, मूत्र कैलकुली और मूत्र पथ की बीमारी जैसी कई समस्याओं से आराम पाने हेतु काम में लाया जाता है।

एंटीबैक्टीरियल और एंटी माइक्रोबिक्ट्रीयल गुण इसमें मौजूद होते हैं। जो आपके मूत्राशय से जुड़े संक्रमण को एक कारगर रूप से दूर करने में सहायता करते हैं। प्रोस्टेटिक की जटिलता को कम करता है ये मूत्राशय की ताकत को बढ़ाकर । गुर्दे के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए नीरी सिरप प्रयोग किया जाता है।

नीरी सिरप के फायदे क्या है? (Benefits of Neeri Syrup in Hindi)-

पेशाब में जलन की समस्या को Neeri syrup दूर करता है।
मूत्र मार्ग संक्रमण को दूर करता है।
किडनी की पथरी को धीरे-धीरे कम करता है।
ये UTI infection की समस्या को दूर करता है।
मूत्र से जुडी लगभग हर समस्याओं के ईलाज में इसका प्रयोग किया जाता है।
ये प्रोस्टेट के खतरे को रोकता है।
पेशाब की अनियमित्तता को ये दूर करता है।
पैशाब के रास्ते में किसी भी तरह के दर्द को रोकता है।
नेफ्रो-सुरक्षात्मक और इम्यूनो-मॉड्यूलेटर के रूप में काम करता है।
इसके अलावा यह Acidity के कारण होने वाली जलन को दूर करता है। जेनिटोरिनरी ट्रैक्ट विकार को दूर करने में सहायता करता है। आपकी इम्यूनिटी सिस्टम को बढ़ावा देता है।बैक्टीरियल इंफेक्शन को दूर करता है। आपके पाचन को बढ़ावा देता है और इन्फ्लेमेशन को कम करता है।

Neeri syrup लेने का सही तरीका क्या हैं –

उम्र के अनुसार अलग-अलग होता है Neeri syrup की खुराक कोई बच्चा जैसे कि 5-10 या 12 साल का है तो उसे लगभग 5 ml सिरप ,दिन में दो बार या तीन बार लेना चाहिए और वह युवा है जिसकी उम्र 15-25 है तो उसे लगभग 5-10 ml सिरप लेनी चाहिए ,दिन में 2-3 बार इसको दिया जाता है। इसी तरह इससे ज्यादे उम्र के लोगों को भी 10 ml की खुराक ही दिन में 2-3 बार लेने की सलाह दी जाती है।

आप अपने डॉक्टर से इसके बारे में ज्यादा जानकारी के लिए पूछ सकतें हैं जो आपकी स्थिति के अनुसार आपको सही जानकारी दे सकते हैं।

साइड इफ़ेक्ट नीरी सिरप के क्या होता है ?(Side effects of Neery Syrup in Hindi).

ये एक आयुर्वेदिक दवा है जिसके कुछ साइड इफैक्ट निम्न है –

हाइपरटेंशन जैसी समस्या नीरी सिरप का अधिक इस्तेमाल से जन्म दे सकता है। इसका इस्तेमाल बिना आयुर्वेदिक चिकित्सक से सलाह लिए नहीं करना चाहिए। आपको किसी भी प्रकार की एलर्जी यदि इसे लेने से हो तो अपने चिकित्सक को जरूर बताएं। इसकी अधिक इस्तेमाल के कारण रक्तचाप की समस्या बन सकता है।

Neeri syrup से जुडी कुछ सावधानियां –

बच्चों को अक्सर नीरी सिरप का सेवन करने से मना किया जाता है या फिर बच्चो को इसका सेवन नहीं करना चाहिए।
स्तनपान करवाने वाली महिला को जबकि डॉक्टर की सलाह के बिना इसका इस्तेमाल भी नहीं करना चाहिए।
यदि हाल ही में आपकी कोई सर्जरी हुई है तो इसका सेवन न करें।
डॉक्टर द्वारा बताये गए खुराक से यदि आप अधिक खुराक लेते हैं तो यह नुकसानदेय हो सकता है।
शराब इसके इस्तेमाल के दौरान नहीं पीनी चाहिए।
डॉक्टर से राय लेने के बाद ही इसका सेवन करें यदि आपको ब्लड प्रेसर की समस्या है तो ।
स्तनपान कराने वाली माताओं को भी इसका सेवन नहीं करना चाहिए।

Neeri syrupको स्टोर कैसे करें ? (How to store Neeri syrup uses in hindi) –

किसी खास तापमान की Neeri syrup को स्टोर करने के लिए जरूरत नहीं होती है। आप अपने रूम के तापमान पर ही इसे रख सकतें हैं। लेकिन आपको ये ध्यान रहें कि यह ज्यादे सूर्य की रोशनी वाली जगह या ज्यादा ठंडा जगह में नहीं रहना चाहिए। और आप जब भी इसका इस्तेमाल करें तो उसके बाद धक्कन को अच्छे से लगा दें।

Conclusion (Neeri syrup uses in hindi) –

आज के इस पोस्ट “Neeri syrup uses in hindi ” के माध्यम से हमने आपको बताया की कैसे neeri syrup का उपयोग किया जाता है और क्यों किया जाता है और इसका प्रयोग किस काम में किया जाता है तथा नीरी सिरप के फायदे क्या हैं एवं इसके नुकसान क्या होते हैं। इन सबके बारें में हमने आपको बताया।

आशा करता हूं कि आपको इस पोस्ट में दी गई जानकारी आशा करती हूं कि आपको अच्छी लगी होगी और भी आपको इसी तरह की स्वस्थ्य से जुड़ी जानकारीयों और बीमारीयों के बारे में जानने के लिए आप हमारे इस ब्लॉग को लगातार पढ़े और शेयर करें।

- Advertisement -

Latest Posts

Don't Miss